Hindi हिन्दी

Skip to main content

जब कोई अपनी ताक़त का प्रयोग आप पर नियंत्रण करने या आपको नुक़सान पहुँचाने के लिए करता है तो यह यौन संबंधी, घरेलू या पारिवारिक दुर्व्यवहार हो सकता है।

ऐसा आपके घर में या समुदाय में हो सकता है। इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं, आपकी आयु, धर्म, संस्कृति या लिंग क्या है।

दुर्व्यवहार इस प्रकार से हो सकता है कि:

  • कोई आपको नीचा दिखाता है और आपको ग्लानि महसूस करवाता है
  • आप पर निगाह रखता है कि आप कहाँ हैं, किसके साथ हैं
  • आपको आपके परिवार या मित्रों से मिलने नहीं देता
  • आपके फ़ोन और ई-मेल चेक करता है
  • आपके पास कितना पैसा है या आप क्या ख़रीद सकते हैं, इस पर नियंत्रण रखता है

कभी-कभी कोई व्यक्ति ऐसा कर सकता है:

  • आपको चोट पहुँचाना या चोट पहुँचाने की धमकी देना
  • आपसे ज़बर्दस्ती कुछ करवाना, इसमें यौन-क्रियाएँ शामिल हैं

ये सभी चीज़ें दुर्व्यवहार हैं और ऐसा किया जाना उचित नहीं है।

जब आपके साथ दुर्व्यवहार होता है तो आपको अकेलापन, भय और सहायता लेने में डर महसूस हो सकता है। आपको चोट पहुँचाने वाला इसके लिए अक्सर आपको दोषी ठहराता है जिससे आपको लज्जा, उदासी या चिंता महसूस होती है और आप स्वयं को दोष देने लगते हैं। ये सभी भावनाएँ सामान्य हैं। इसमें आपका कोई दोष नहीं है।


दुर्व्यवहार का चक्र

लोग अपने दुर्व्यवहार के लिए अक्सर बहाने बनाते हैं या उसे कमतर आँकते हैं। वे आपको, अन्य लोगों को या तनाव, शराब या थकान जैसी चीज़ों को इसके लिए दोषी ठहरा सकते हैं।

वे आपसे अलग हो जाने, आपको चोट पहुँचाने या आत्महत्या की धमकी दे सकते हैं। वे अपने विभिन्न तरह के व्यवहारों द्वारा आपको भ्रम में डाल सकते हैं।

कभी-कभी वह दुर्व्यवहार करने के बाद क्षमा माँगने लगते हैं और दयालुता दिखाते हैं, या दोबारा ऐसा न करने का वचन देते हैं लेकिन ऐसा बार-बार होता रहता है।


दुर्व्यवहार करना उचित नहीं है

यह समझ लेना आवश्यक है कि दुर्व्यवहार करने के लिए कभी भी, कोई भी बहाना स्वीकार्य नहीं है।

लोग इस तरह का व्यवहार करने का चुनाव स्वयं करते हैं और वे इसके लिए स्वयं ही उत्तरदायी हैं।

आपको सुरक्षित महसूस करने का अधिकार है।

फ़ुल स्टॉप ऑस्ट्रेलिया में हम उन लोगों की सहायता करते हैं जो यौन संबंधी, घरेलू या पारिवारिक दुर्व्यवहार का अनुभव कर रहे हैं।

दुभाषिए सहित अँग्रेजी बोलने वाले प्रशिक्षित परामर्शदाता 1800 385 578 पर 24/7 उपलब्ध हैं।

कृपया पर www.fullstop.org.au जाएँ